Recents in Beach

header ads

शिलाजीत के लाभ और नुकसान, इस तरह से करें सेवन

शिलाजीत के लाभ और नुकसान, इस तरह से करें सेवन 


शिलाजीत के लाभ और नुकसान : शिलाजीत को भारतीय आयुर्वेद में एक महत्वपूर्ण औषधि के रूप में माना जाता है इसका ज्यादातर इस्तेमाल बाजीकारक दवाओं के रूप में किया जाता है, भारतीय आयुर्वेद में इसका उपयोग हजारों सालों से किया जा रहा है | शिलाजीत एक मोटे काले भूरे रंग का पत्थरनुमा तारकोल है जो हिमालय पर्वतों में उनकी दरारों से गर्मियों के दौरान तापमान बढ़ने पर बाहर निकलता है |

शिलाजीत साधियों पुराने पौधों के विघटन से बना पदार्थ है जिसमें विटामिन, खनिज और अन्य पौषक तत्वों से बना एक शक्तिशाली पदार्थ है, शिलाजीत सभी प्रकार के मानसिक और शारीरिक तनाव से बचाव करने में मदद करता है | आज की इस पोस्ट में हम जानेंगे "शिलाजीत के लाभ और नुकसान" |

शिलाजीत के लाभ


शरीर को ताकतवर बनाना 

शिलाजीत का उपयोग आयुर्वेद में सदियों से शरीर को उर्जावान बनाने और शरीर को मजबूती प्रदान करने में किया जाता रहा है, शिलाजीत एक शक्तिशाली पदार्थ है जो शरीर के अंदर माईट्रोकोंड्रीया की शक्ति को बढ़ाकर शरीर को उर्जाप्रदान करता है और शरीर की रोगप्रतिरोधक क्षमता को बढ़ाता है |

मानसिक स्वास्थ्य को बढ़ाता है 

बहुत से अध्यनों से पता चला है की इसके अंदर विशेष प्रकार के न्यूरोप्रोटेक्टेव क्षमता है, यह अविश्वसनीय पौषक तत्व अल्जाइमर रोग के हल्के मामलों का ईलाज करने के लिए भी इस्तेमाल किया जा सकता है |

हार्मोन और इम्यून सिस्टम को कण्ट्रोल करता है

शिलाजीत का एक महत्वपूर्ण कार्य यह भी है की यह विभिन्न शारीरिक प्रणालियों को नियंत्रित करता हैं, जैसे की आपकी प्रतिरक्षा प्रणाली और हार्मोन्स के संतुलन को कंट्रोल करने में मदद करता है और साथ ही शरीर की रोग-प्रतिरोधक क्षमता को बूस्ट करता है |

मधुमेह को करता है कंट्रोल

शिलाजीत मधुमेह के रोगियों में रक्त ग्लूकोज और लिपिड प्रोफाइल को कम करने में मदद करता है |

कैंसर से बचाव और रक्षा करता है

शिलाजीत विभिन्न प्रकार के कैंसर के लिए विषाक्त पाया गया है, जिनमें फेफड़े, स्तन, कोलन, डिम्बग्रंथियों और यकृत कैंसर शामिल है |

खून बनाने में सहायक है

शिलाजीत के अंदर उपस्थित आयरन की मात्रा होने के कारण ये एनीमिया उपचार में भी काफी सहायक है, इससे शरीर में रक्त का निर्माण होता है |

यौन रोगों में लाभदायक 

शिलाजीत का उपयोग सदियों से यौन रोगों के उपचारों में किया जाता है, आयुर्वेद में हमेशा से इसका उपयोग पुरुषों के गुप्त रोगों को ठीक करने के लिए किया जाता रहा है, शिलाजीत से वीर्य में उत्पन्न हुए दौषों को भी दूर किया जा सकता है |

शिलाजीत के नुकसान 


शिलाजीत का उपयोग अगर हम सही तरीके और सही मात्रा में करें तो इसका कोई दुष्प्रभाव नहीं है, लेकिन अगर इसकी मात्रा ज्यादा ली जाए तो ये शरीर में कई प्रकार की बीमारियों को जन्म दे सकता है और शरीर पर दुशप्रभाव डाल सकता है, आइए जानते हैं शिलाजीत के लाभ और नुकसान में इससे होने वाले नुकसान के बारे में |

  • अत्यधिक मात्रा में शिलाजीत के सेवन से शरीर में अत्यधिक गर्मी और उत्तेजना पैदा हो सकती है |

  • पैरों में जलन का एहसास हो सकता है |

  • हाथ और पैरों में अधिक गर्मी महसूस होना |

  • पेशाब ज्यादा या कम लगना |

इसके सेवन से शरीर में एलर्जी हो सकती है, जैसे मतली आना, चक्कर आना, खुजली जैसी समस्या हो सकती है |

दोस्तों ये थे शिलाजीत के लाभ और नुकसान यदि आप शिलाजीत का सेवन करना चाहते हैं तो पहले किसी अच्छे आयुर्वेदिक डॉक्टर से परामर्श लें और उसके बाद ही इसका सेवन करें |

Post a Comment